S-400: भारत का नया एयर डिफेंस सिस्टम जाने डिटेल

33 Views

भारत देश की सेना विश्व में सबसे लेटेस्ट टेक्नोलॉजी वाली सेनाओं में से एक है। भारतीय रक्षा मंत्री तथा सेना के प्रमुख के द्वारा भारतीय सेना को और मजबूत करने के लिए साल के अंत तक में भारत को S-400 नामक बैलेस्टिक मिसाइल की डिलीवरी शुरू कर दी जाएगी। भारत को यह एयर डिफेंस सिस्टम रूसी कंपनी के द्वारा प्राप्त होगी। अभी तक मिली जानकारी के अनुसार रूस के अधिकारियों ने आश्वासन दिया है कि भारतीय सेना के द्वारा किए गए इस डील को पहले से ही तय समय के अनुसार ही निर्धारित समय पर ही पूर्ण किया जाएगा। भारत को जब या एक नया एयर डिफेंस सिस्टम S-400 प्राप्त होगा तब भारत भी एक बेहतर टेक्नोलॉजी के आधार पर विश्व में अपनी स्थिति और भी मजबूत कर लेगा। आपको इस फोर हंड्रेड जो भारत का नया एयर डिफेंस सिस्टम है उसके विषय में जानकारी देते हैं।

S-400: भारत का नया एयर डिफेंस सिस्टम

भारत को वर्ष के अंत तक में अर्थात नवंबर में रूसी कंपनियों के द्वारा S-400 एयर डिफेंस सिस्टम मिसाइल सिस्टम की डिलीवरी शुरू कर दी जाएगी। पिछले कई वर्षों से भारत रूस से अनेकों प्रकार के सैन्य मिसाइलों तथा हथियारों का खरीद करता रहा है। इस बार रूस के द्वारा जब भारत हथियार खरीदने की बात किया तब अमेरिका ने भारत पर काट्स कानून के जरिए प्रति बंधन लगाने की धमकी दे दी। जिसके कारण भारत हथियारों को नहीं मंगवा सकता था। परंतु अब मिली जानकारी के अनुसार नवंबर से भारत को एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम का आयात शुरू हो जाएगा। आप अवश्य की सोच रहे होंगे कि आखिर S-400 डिफेंस मिसाइल सिस्टम में ऐसा क्या है जो भारत की खरीद पर अमेरिका इस पर काट्स कानून लगाना चाहता है। जानते हैं इस एस फोर हंड्रेड एयर डिफेंस सिस्टम के बारे में कि आखिर क्यों यह हमारे लिए खास है?

Russia completes delivery of second S-400 missile system regimental set to  China - source - World - TASS

नया एयर डिफेंस सिस्टम S-400 क्या है?

भारतीय शामिल होनेेेेे वाले इस एयर मिसाइल सिस्टम में अनेक खूबियां हैं। शामिल होने से हमारा भारत भी अन्य देश की सेनाओं की भांति एक अलग ही स्थान हासिल कर लेगा। खूबियां निम्न है।

  • इस मिसाइल सिस्टम के द्वारा दुश्मन थे एयरक्राफ्ट को आसमान से ही गिराया जा सकता है।
  • S-400 को रूस के सबसे एडवांस और लॉन्ग रेंज जमीन से आसमान तक मार करने वाली डिफेंस सिस्टम मानी जाती है। अर्थात या जमीन से आसमान तक लंबी दूरी आसानी से तय कर सकती है और सटीक निशाना लगा सकती है।
  • इस मिसाइल के द्वारा दुश्मन के मिसाइल, एयरक्राफ्ट और बैलेस्टिक मिसाइलों को भी मार गिराने में सफलता प्राप्त होगी।
  • यहां रूस के S-300 मिसाइल सिस्टम का अपग्रेडेड वर्जन है।
  • रूस में निर्मित इस मिसाइल को अलमाज आते ने तैयार किया है। इस मिसाइल का उपयोग 2007 के बाद रूसी सेना में किया जा रहा है।
  • इस मिसाइल की एक खूबी यह भी है कि यहां एक ही राउंड में 36 वार कर सकता है।

कब और कहां तैनात हुआ पहली बार S-400

भारत में शामिल होने वाला इस फोर हंड्रेड आखिर पहली बार कहां पर तैनात हुआ और इसे भारत के लिए इतना महत्वपूर्ण माना जा रहा है। आपको इस महत्वपूर्ण जानकारी को साझा करते हैं।

किसी भी सेना में 400 किलोमीटर दूरी तक के निशाने को आसानी से मार गिराने वाले s-400 मिसाइल को 28 अप्रैल 2007 को रूस ने अपनी सेना में शामिल किया था। आज के मौजूदा समय में यह एयर डिफेंस सिस्टम सबसे एडवांस है। हथियार एक्सपर्ट जानकारी के अनुसार यह एयर डिफेंस सिस्टम इजरायल और अमेरिका की मिसाइल डिफेंस सिस्टम से अधिक मजबूत है। इस मिसाइल सिस्टम को रूसी सेना इसलिए शामिल की है क्योंकि इसके लंबी रेंज तक मार करने के कारण यह बेहद आवश्यक हथियार है। इसके अलावा रूसी सेना के पास कम दूरी में मार करने वाली मिसाइल डिफेंस सिस्टम भी उपलब्ध हैं। इस मिसाइल सिस्टम के द्वारा एयरक्राफ्ट को भी मार गिराया जा सकता है। जैसा कि भारत के पड़ोसी देशों के द्वारा समय-समय पर हवाई हमले होते रहते हैं इस कारण यह मिसाइल भारत के लिए बेहद आवश्यक है।

रूस के द्वारा समय-समय पर नए-नए हथियार बनाए जाते रहे हैं। आपको शायद यह मालूम नहीं होगा कि रूस एयरोस्पेस फोर्स के डिप्टी कमांडर इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल आंद्रे यूटीन ह उन्होंने कहा है कि 2021 के अंत तक में रूस के पास दुनिया का सबसे एडवांस एंटीक्राफ्ट मिसाइल s500 होगा। के साथ-साथ उन्होंने यह भी जानकारी दी कि S-500 मोबाइल एयर डिफेंस सिस्टम और एंटी बैलेस्टिक मिसाइल सिस्टम का कार्य 2021 में पूरा कर लिया जाएगा।

यदि आप भी आज के नए और नई-नई तकनीक से लैस सेना में शामिल होना चाहते हैं तो आज ही मेजर कलशी क्लासेस की ऑफिशल वेबसाइट पर जाकर अपना नामांकन करवाएं और देश के सर्वश्रेष्ठ कोचिंग संस्थान के साथ जुड़कर डिफेंस की तैयारी शुरू। डिफेंस की तैयारी तथा डिफेंस से संबंधित जानकारियां एवं अन्य महत्वपूर्ण हथियारों के विषय में जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे साथ लगातार जुड़े रहें। अन्य जानकारियां प्राप्त करने के लिए आप हमारे द्वारा दिए गए हैं वेबसाइट के लिंक पर क्लिक करके प्राप्त कर सकते हैं।

Frequently Asked Questions (FAQs)

1- S-400: भारत का नया एयर डिफेंस सिस्टम सेना में कब शामिल होगा?

उत्तर:- रूसी कंपनी के द्वारा किए गए करार के द्वारा इस एयर डिफेंस सिस्टम को सेना में नवंबर 2021 तक शामिल कर लिया जाएगा। अभी तक इस एयर डिफेंस सिस्टम को अमेरिका के प्रतिबंध के कारण सेना में शामिल नहीं किया जा सका था।

2- भारत के लिए s400 एयर डिफेंस सिस्टम किस लिए आवश्यक है?

उत्तर:- भारत के लिए s-400 एयर सिस्टम इसलिए आवश्यक है क्योंकि भारत के पड़ोसी देश हवाई हमले करते रहते हैं। इस मिसाइल के द्वारा किसी भी दुश्मन देश के एयरक्राफ्ट तथा बैलेस्टिक मिसाइल जैसे मिसाइलों को हवा में ही मार गिराया जा सकता है।

3- s-400 के द्वारा कितनी दूरी तक मार की जा सकती है?

उत्तर:- नए एयर डिफेंस सिस्टम के द्वारा लगभग 400 किलोमीटर की दूरी पर स्थित किसी भी चेकपस्ट अथवा एयरक्राफ्ट को आसानी से मारा जा सकता है।

4- रूस अपने सेना में वर्ष 2021 के अंत तक कौन से बैलेस्टिक मिसाइल शामिल कर सकता है?

उत्तर:- वर्ष 2021 के अंत तक में रूस के कंपनी के द्वारा S-500 बैलेस्टिक मिसाइल को सेना में शामिल किया जा सकता है।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •