How to become NSG commando in Hindi

65 Views

How to become NSG commando:- दोस्तों, जो भी उम्मीदवार भारतीय सेना में भर्ती होने के पश्चात सभी जवानों का सपना होता है कि वे कमांडो के रूप में भारत की सेवा करें। किंतु यह सपना सभी जवानों का पूर्ण नहीं हो पाता। किसी भी बटालियन के सर्वश्रेष्ठ जवानों को ही कमांडो (NSG commando) के रूप में चयनित किया जाता है, और उन्हें ट्रेनिंग दी जाती है। आज के लेख में हम आपको बताएंगे कि भारतीय सेना में जवानों को चयनित करने के पश्चात किस प्रकार से कमांडो बनाया जाता है। इसके अलावा यह भी जानकारी देंगे, कि इन जवानों को ट्रेनिंग के पश्चात कौन-कौन से कार्य करने होते हैं। इस रोचक जानकारी को जानने के लिए हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें। जिससे आप में भी सेना में भर्ती होकर कमांडो बनने के प्रति जज्बा जागृत हो सके।

NSG commando

भारत की विशेष सेना दुनिया की कुछ सबसे शक्तिशाली सैन्य टुकड़ियों में से एक हैं। इन सर्वश्रेष्ठ टुकड़ियों को विशेष अभियानों जैसे आतंकवाद या रिसक्यू जैसे कार्य के लिए आगे भेजा जाता है। इन कार्यों के लिए इन टुकड़ियों को विशेष प्रशिक्षण दिया जाता है। जिसके पश्चात इन्हें किसी भी प्रकार के खतरनाक अभियानों पर भेजा जा सकता है। ऐसे ही एक विशेष दल एनएसजी कमांडो के होते हैं। जो काले रंग के पोशाक तथा चाकू से सुसज्जित होते हैं। कमांडोज को राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड के रूप में देखा जाता है।

NSG commando क्या है?

एनएसजी कमांडो (NSG commando) अर्थात राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड एक सेना का संगठन होता है जो भारत में आतंकवाद की गतिविधियों से लड़ने के लिए कार्य करते हैं। 1984 में गृह मंत्रालय की इकाई ब्लू स्टार ऑपरेशन के बाद इन्हें बनाया गया। इन कमांडो का उद्देश्य देश के आंतरिक गड़बड़ियों को सुधारना एवं आतंकवाद से लड़ना होता है।

NSG commando क्यों बनाया गया?

किसी भी सर्वश्रेष्ठ संगठन का बनाए जाने का कारण देश के अंदर होने वाले गड़बड़ियों को ठीक करने एवं उनसे निपटने के लिए होता है। NSG commando देश के आतंकवाद से जुड़े सभी गतिविधियों को खत्म करने के लिए बनाया गया है। इनका उपयोग केवल असाधारण स्थितियों में आतंकवाद को रोकना एवं खत्म करना है। यह कमांडो राज्य पुलिस बल या अन्य अर्धसैनिक बलों के साथ कार्य नहीं करते। एनएसजी कमांडोज (NSG commando) को जमीन, समुद्र और हवाई जहाजों में अपहरण जैसी गतिविधियों को सरलता पूर्वक हल करने के लिए पूरी तरह से प्रशिक्षित किया जाता है। इसके अतिरिक्त इन्हें बम को खोजना तथा निष्क्रिय करना एवं देशवासियों को आतंकवाद के चंगुल से छुड़ा ना जैसे मिशन में प्रयोग किए जाते हैं।

How to become NSG commando

जैसा कि ऊपर बताया गया है, देश में सैनिकों के बटालियन में से ही कुछ प्रमुख सैनिकों को चयनित कर के एनएसजी कमांडो (NSG commando) के रूप में ट्रेनिंग दी जाती है। किंतु एनएसजी कमांडो बनने के लिए कुछ मानदंडों का पालन करना अनिवार्य है। एनएसजी में शामिल होने के लिए उम्मीदवार को देश के किसी भी सशस्त्र बल का हिस्सा होना अनिवार्य है। सैन्य बल में हिस्सा लेने के लिए उम्मीदवार को केंद्रीय सैन्य बल तथा भारतीय सेना के खंड जैसे (CRPF, SSB, CISF, BSF, ITBP) में सेना के रूप में कार्य करना अनिवार्य है।

राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG commando) तीन भागों से बना हुआ होता है।

  • SAGविशेष कार्य समूह (Special action group) :- NSG commando की प्रमुख समूह ऐसे जी हैं। इनमें कार्य करने वाले कमांडो मुख्य रूप से भारतीय सेना से लिए जाते हैं। इनको आतंकवाद और अपहरण जैसी गतिविधियों को रोकने के अभियान का काम दिया जाता है।
  • SRGविशेष रेंजर समूह ( special Ranger group) :- विशेष रेंजर समूह भारत के वीआईपी तथा वीवीआईपी व्यक्तियों की सुरक्षा के लिए तैनात किए जाते हैं। इनमें कमांडो की भर्ती भारतीय सेना, केंद्रीय सैन्य पुलिस बल, और राज्य पुलिस के जवानों के द्वारा होती है।
  • SCGविशेष समग्र समूह (special capability group):- यह समूह एक युद्ध लड़ने वाली कमांडो सेना होती है। एनएसजी की यह टुकड़ी भारत के पांच प्रमुख शहरों (मुंबई, हैदराबाद चेन्नई ,कोलकाता और गांधीनगर) में आतंकवाद को रोकने के लिए तैनात की जाती है।

Para SF Commando कैसे बनते हैं ? सम्पूर्ण जानकारी।

NSG के लिए चयन मानदंड

NSG में कमांडो बनने के लिए सैनिकों को तीन चरणों से गुजरना होता है।

  • पूर्व चयन मानदंड
  • चयन और प्रारंभिक योग्यता प्रशिक्षण
  • उन्नत प्रकार की एनएसजी प्रशिक्षण

चरण 1:- पूर्व चयन प्रशिक्षण

NSG में कमांडो बनने के लिए सैनिकों के निम्न मापदंडों का होना अनिवार्य है।

  • जवानों को भारतीय सेना में कम से कम 3 वर्ष और पुलिस बल में कम से कम 5 वर्ष के कार्य का अनुभव होना चाहिए। (दोनों में से कोई एक अनुभव)
  • उम्मीदवार की आयु 35 वर्ष से कम होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार की चिकित्सीय एवं शारीरिक मानदंड चयन नियम के अनुसार पूर्ण होने चाहिए।
  • सेना से जुड़े अथवा पुलिस बल में कार्य करने वाले जवानों की सेवा रिपोर्ट अच्छी होनी चाहिए।

ऊपर दिए गए मापदंडों के द्वारा केवल एनएसजी कमांडो (NSG commando) के लिए जवानों का चयन किया जाता है। इसके अलावा कमांडो के रूप में काम करने के लिए जवानों को कई मनोवैज्ञानिक एवं शारीरिक प्रशिक्षण पूर्ण करने होते हैं। MARCOS Commando कैसे बनते हैं। विस्तार से जाने मारकोस कमांडो के बारे में।

चरण 2:- चयन और प्रारंभिक योग्यता प्रशिक्षण

बेहतर प्रशिक्षण एवं उन्नत प्रकार के कार्यों के प्रशिक्षण के लिए जवानों को दो चरणों में प्रशिक्षित किया जाता है। एनएसजी (NSG commando) प्रशिक्षण में लगभग 14 महीने लगते हैं जो हरियाणा के मानेसर में स्थित राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड प्रशिक्षण केंद्र में पूर्ण होती है। जवानों को पहले 3 महीने एनएसजी प्रशिक्षण के प्रारंभिक प्रशिक्षण करवाया जाता है। जिसके पश्चात उन्नत प्रकार के प्रशिक्षण के लिए 9 माह से अधिक का समय लिया जाता है। इन प्रशिक्षण के दौरान उम्मीदवारों को शारीरिक प्रशिक्षण के दौर से गुजर ना होता है। जिसमें उम्मीदवार को ऊंचाई से कूदना इसके लिंग करना शूटिंग तनाव एवं थकावट परिस्थितियों में खुद को ढालना आदि गतिविधियां करवाई जाती है। यह गतिविधियां इतनी चुनौतीपूर्ण होती है, कि लगभग 70 से 80% उम्मीदवार प्रशिक्षण के मध्य में ही प्रशिक्षण केंद्र छोड़ देते हैं।

चरण 3:- उन्नत एनएसजी प्रशिक्षण

बेहतरीन एनएसजी (NSG commando) प्रशिक्षण के लिए लगभग 9 माह का समय लगता है। इस दौरान उम्मीदवारों को निम्न प्रकार के प्रशिक्षण करवाए जाते हैं।

  • विध्वंसक तथा बम निष्क्रिय करने की तकनीकी
  • निहत्थे होने पर शत्रु से मुकाबला करना (मार्शल आर्ट)
  • चाकू से मुकाबला करना
  • खुफिया तरीके से व्यक्ति पर निगरानी रखना एवं जानकारी एकत्र करना।
  • रैपिड एंड रिफ्लेक्स शूटिंग तथा मिरर शूटिंग।
  • विशिष्ट प्रकार की तकनीकी का उपयोग करना।

एनएसजी कमांडो के रूप में केवल उन्हीं जवानों को रखा जाता है जो केवल 14 माह में प्रशिक्षण को पूर्ण रूप से समाप्त करते हैं। इन प्रशिक्षण के अतिरिक्त इन्हें विशेष प्रशिक्षण भी दिया जाता है। कभी-कभी एनएसजी कमांडो (NSG commando) को बेहतरीन प्रकार के युद्ध प्रशिक्षण के लिए इजरायल भी भेजा जाता है। प्रशिक्षण पूर्ण होने के पश्चात सैनिक आमतौर पर एनएसजी के साथ 3 से 5 वर्ष तक कार्य करते हैं। जिसके पश्चात वे पुनः सैन्य बल में शामिल हो सकते हैं।

दोस्तों आज हमने अपने लेख में एनएसजी कमांडो (NSG commando) कैसे बने इसके बारे में जानकारी दी। ऊपर दी गई जानकारी से आपके मन में भी एनएसजी कमांडो जैसे बनने की इच्छा हो रही होगी। यदि आप भी चाहते हैं कि सेना में शामिल होकर एनएसजी कमांडो के जैसे ही कार्य करें तो आज ही सैन्य बल की तैयारी करना शुरू कर दें। सैन्य बल में शामिल होने के लिए डिफेंस से जुड़ी कोचिंग संस्थान मेजर कलशी क्लासेस में आज ही दाखिला लें।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •