1971 War Hero Col. Punjab Singh passed away.

38 Views

1971 War Hero Col. Punjab Singh :- पिछले दो वर्षो से पूरे विश्व में कोरोना महामारी के कारण देश विदेश के अनेको महान पुरुष और प्रख्यात लोगो की जान जा चुकी है| हम के लेख में हम आपको एक ऐसे जवान के बारे में जानकारी देने जा रहे है| जिन्होंने अपने सैन्य जीवन में कई मुश्किलों का सामना डट के किया| लेकिन कोरोना के खिलाफ जंग में हार गये और रविवार को अपनी आंखे बंद करके हमारा साथ छोड़ गये| आज हम बात कर रहे है 1971 के जाबांज जवान नायक कर्नल पंजाब सिंग की| जिन्होंने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए पुच (Poonch) की लड़ाई में अच्छा प्रदर्शन करते हुए पाकिस्तान को हराया ही नही बल्कि पाकिस्तान के 9 ऑपरेशन को निष्क्रिय भी किये|

उनके इस महान कार्य से बदले उपहार स्वरुप वीर पुरष्कार दिया गया था| आइये इन महान व्यक्तित्व वाले इन्सान के विषय में आपको जानकारी देते है|

1971 War Hero Col. Punjab Singh

भारत और पाकिस्तान के मध्य लड़े सन 1971 के मुक्ति संग्राम युद्ध में पाकिस्तान को लोहे के चने चबाने वाले नायक कर्नल पंजाब सिंह रविवार को चंडी मंदिर के कमांड अस्पताल में अपना दम तोड़ दिया। इससे पहले यह कोरोना महामारी के कारण कोरोनावायरस से संक्रमित हुए। संक्रमण से उबर चुकने के बावजूद भी यह कोविड-19 जटिलताओं के कारण पुनः अस्वस्थ हुए और रविवार को इनका देहांत हो गया। 1971 के मुक्ति संग्राम युद्ध में पाकिस्तान के सैनिकों के द्वारा भारतीय सेना पर बार-बार प्रहार करने के बावजूद भी इन्होंने निडरता का प्रदर्शन करते हुए अपने कमांड के साथ पाकिस्तान की सेना को हरा दिया। इस निडरता पूर्वक प्रदर्शन को देखते हुए भारत सरकार के द्वारा इन्हें तीसरा सर्वोच्च वीरता पुरस्कार वीर चक्र दिया गया।

अभी पिछले हफ्ते ही 21 मई 2021 को उनके बड़े बेटे की भी मृत्यु कोरोनावायरस के संक्रमण के कारण हुई थी। कर्नल पंजाब सिंह को पुच (Poonch) के हीरो के नाम से भी जाना जाता है। इन्हें यह उपाधि 1971 के युद्ध में हिस्सा लेने के पश्चात प्राप्त हुए।

आइए जाने 1971 War Hero Col. Punjab Singh के वीरता की कहानी

कुछ लोगों के मन में अवश्य सवाल उठ रहा होगा कि आखिर Col. Punjab Singh ने सन 1971 के युद्ध में ऐसा कौन सा वीरता पूर्वक कार्य किया जिसके पश्चात इन्हें पुच (Poonch) के हीरो के रूप में जाना जाने लगा। आइए जानते हैं कि उन्होंने कैसे भारतीय सेना में शामिल होकर 1971 के युद्ध में वीरता पूर्व प्रदर्शन किया और देश की जीत मैं अपना सर्वोच्च योगदान दिया।

  • कर्नल पंजाब सिंह का जन्म 15 फरवरी 1942 को हुआ थाा
  • 16 दिसंबर 1967 को इन्हें सिख रेजीमेंट की छठवीं बटलियन में कमीशन। दिया गया।
  • 12 अक्टूबर 1986 से 29 जुलाई 1990 तक इन्होंने प्रतिष्ठित बटालियन की कमान संभाली। अभी वर्तमान समय में लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे जो इनके दामाद हैं वे श्रीनगर में स्थित 15 कोर के कमांडर हैं।
  • 16 दिसंबर 1967 को सिख रेजीमेंट में कमीशन प्राप्त करने के बाद उन्होंने 1971 के मुक्ति संग्राम युद्ध में हिस्सा लिया।
  • इस युद्ध के दौरान ऑपरेशन कैक्टस लिली में इन्होंने 6 सिख बटालियन ने दो बिंदुओं को कवर करते हुए पुच (Punch) के 13 किलोमीटर ऊंचाई पर अपना कब्जा कर लिया।
  • 1971 War Hero Col. Punjab Singh ने 3 दिसंबर 1971 को 25 सैनिकों के साथ पाकिस्तानी सेना के तोपखाने और मोटार फायर के जवाब में हमला कर दिया।
  • सेना के एक अधिकारी के अनुसार कर्नल पंजाब सिंह ने 6वी सिख कमांडर के साथ मिलकर पाकिस्तान के शास्त्रीय लड़ाई के बदले में रक्षात्मक लड़ाई लड़ी।
  • पाकिस्तानियों ने दो रातों में लगभग 9 बार हमला किया। प्रत्येक हमले को कर्नल पंजाब सिंह और उनके बहादुर जवानों ने विफल किया। जिसके चलते पाकिस्तानी सेना को युद्ध क्षेत्र से भागना पड़ा।
  • इस बहादुरी के लिए कर्नल पंजाब सिंह को 24 दिसंबर 1971 को वीर चक्र से सम्मानित किया गया।
  • रिटायर होने के पश्चात कर्नल पंजाब सिंह ने सैनिक कल्याण हिमाचल प्रदेश में शामिल हुए और वहां के निदेशक बने।
  • साथ ही साथ दक्षिणी क्षेत्र के इंडियन एक्स सर्विस लीग के उपाध्यक्ष भी थे।

आज हमारे बीच 1971 War Hero Col. Punjab Singh नहीं है, किंतु उनके द्वारा किए गए इस बहादुरी के किस्से हमेशा ही याद किए जाएंगे और नए सैनिकों को प्रेरित करेंगे कि वह भी इसी प्रकार के बहादुरी के कार्य करके देश के लिए अच्छा कार्य करें। अगर आप भी सेना में कर्नल के पद पर कार्य करना चाहते हैं तो आज ही एनडीए की तैयारी करने हेतु मेजर कलशी क्लासेस के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर अपना नामांकन करवाएं और एनडीए, कमाइंड डिफेंस सर्विस जैसी महत्वपूर्ण परीक्षाओं की तैयारी शुरू करें।

Frequently Asked Questions (FAQs)

1- 1971 War Hero Col. Punjab Singh की मृत्यु कब हुई है?

उत्तर:- कर्नल पंजाब सिंह की मृत्यु रविवार 23 मई 2021 को हुआ है।

2- कर्नल पंजाब सिंह ने भारतीय सेना मैं कमीशन कब दिया गया?

उत्तर:- कर्नल पंजाब सिंह ने भारतीय सेना में कमीशन 16 दिसंबर 1967 दिया गया था।

3- 1971 के किस युद्ध में Col. Punjab Singh ने अगुवाई की थी?

उत्तर:- 1971 के बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के समय भारत पाकिस्तान के मध्य लड़े गए पूछ के युद्ध में छठ वी बटालियन की अगुवाई की थी।

4- कर्नल पंजाब सिंह को वीर पुरस्कार कब दिया गया?

उत्तर:- कर्नल पंजाब सिंह को 24 दिसंबर 1971 को वीर चक्र से सम्मानित किया गया।

5- सेना से रिटायर होने के पश्चात कर्नल पंजाब सिंह ने क्या-क्या कार्य किए?

उत्तर:- सेना से रिटायर होने के पश्चात कर्नल पंजाब सिंह ने सैनिक कल्याण हिमाचल प्रदेश में शामिल हुए और वहां के निदेशक बने।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •